15.01.2016
प्रतिष्ठा में,
आदरणीय/आदरणीया
अभिवादन। 
मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामना स्वीकारें।
विदित हो कि गत् दो माह के दौरान जलवायु परिवर्तन के भिन्न पहलुओं पर मैने कुछ अध्ययन, मनन और लेखन किया है, किंतु कल मौसम विभाग के महानिदेशकर डाॅ. लक्ष्मण सिंह राठौर एवम भारतीय कृषि अनुसंधान केन्द्र के वैज्ञानिक डाॅ. एस. नरेश कुमार से हुई आकाशवाणी चर्चा के बाद मन बहुत उद्वेलित भी है और उत्साहित भी। इन्ही भावों में विचरते रातभर नींद नहीं आई।
उद्वेलित इसलिए हूं कि जलवायु परिवर्तन, जितने बदलावों का कारण बनने जा रहा है, वे इतने दुष्प्रभावपूर्ण तथा तेजी से व्यापक होने वाले हैं कि हमने यदि अभी से उपाय नहीं किए, तो संभलना मुश्किल हो जायेगा। 
मैं स्पष्ट देख पा रहा हूं कि जलवायु परिवर्तन, सिर्फ मौसम विज्ञानियों और पर्यावरणविदों की चिंता और चिंतन का विषय नहीं रहने वाला; जल्द ही यह हमारे भूगोल, हमारी सेहत, वनस्पति, खेती, जीव विविधता, जलसंसाधन, उद्योग, व्यापार, रोजगार, जीडीपी, सामाजिक विन्यास, उपभोग, विकास और अपराध नियंताओं की चिंता का विषय बनने वाला है। आपदायें, कब क्या कर जायेंगी; आगे यह कहना मुश्किल होता जायेगा। जलवायु परिवर्तन के इतने विविध आयामों को सोचकर ही मैं हैरान-परेशान हूं। इसका हर आयाम, एक विस्तृत तथा विशेषज्ञ शिक्षण की मांग करता है।
दुखद होगा कि सबसे ज्यादा दुष्प्रभावित हमारे गांव, गरीब, उसका जल, खेती, मवेशी, चारा, रोजगार, आर्थिकी और सामाजिक स्थिरता ही होंगे। पलायन, एक नई चुनौती बनकर उभरेगा। प्रकृति के दोस्त के रूप में कार्य करने वाली न मालूम कितनी जीवन प्रजातियां, इससे नष्ट हो जायेंगी; सिर्फ और सिर्फ मानव की कारगुजारियों केे कारण ! ओह! हमारे कृत्यों का यह कैसा दुखद परिणाम होगा। 
मेरा मानना है कि हमें जलवायु परिवर्तन को प्रकृति द्वारा मानव कृत्यों के नियमन कदम के रूप में लेना चाहिए और उसके नियमन आदेशों की पालना करनी चाहिए।

इस समय सूचना और जनसंचार तंत्र पर बहुत बङी जवाबदेही है कि जलवायु परिवर्तन, इसके संभावित व्यापक दुष्प्रभाव तथा जलवायु परिवर्तन के कारण और निवारण में शासन, प्रशासन, वैज्ञानिक, जनसंचार व सूचना तंत्र, तथा समाज की भूमिका के बारे में सूचित, शिक्षित और प्रशिक्षित करे।
कृपया, इस दृष्टि से मेरे निवेदन पर विचार करें।
‘बदलती जलवायु: हम भी बदलें’ – इस विचार बिंदु को केन्द्र में रखकर जलवायु परिवर्तन विषय पर एक चिंतन/लेखन/प्रकाशन/संवाद की श्रृंखला शुरु करने के बारे में सोचें। शीर्षक क्या हो ? श्रृंखला, किस रूप-स्वरूप में हो ? यह तय करने के लिए आप स्वतंत्र हैं ही।
श्रृंखला को निम्नलिखित उप विषयों के अनुसार सुनिश्चित किया जा सकता है:
  1. पृथ्वी और पृथ्वी की जलवायु।
  2. जलवायु परिवर्तन – संकेतक, संभावित बदलाव, मानक और आकलन की तकनीक और संबंधित विभाग। (ऋतुओं की संख्या, अवधि, वर्षा का वितरण, गर्मी और सर्दी के बढ़ने-घटने की संभावनायें, तापमान में अधिकता व अचानक गिरावट की संभावना, हवाओं के वेग, आद्रता आदि पहलू)
  3. जलवायु परिवर्तन के कारण ? (तीन मानव गतिविधियां: उत्सर्जन बढ़ोत्तरी, उपभोग का बढ़ना और अवशोषण का घटना। क्या हैं इनके लिए जिम्मेदार प्रमुख गतिविधियां, तकनीक, देश व वर्ग ?)
  4. जलवायु परिवर्तन: वैश्विक समझौता और भारत के लक्ष्य : यह लक्ष्य कैसे हासिल होगा ? किस पर क्या दुष्प्रभाव पङेगा ? कारण और निवारण की दृष्टि से किसकी क्या भूमिका है ? कारणों में कमी तथा दुष्प्रभावों से सुरक्षा के लिए क्या उपाय जरूरी है ? इसके लिए किसकी क्या तैयारी है ? क्या तैयारी और करने की जरूरत है? वह कैसे होगी ? यह समझने-समझाने की दृष्टि से प्रथम चार कङियों के पश्चात् आगे की कङियों को विशेषज्ञ कङियों के रूप में प्रस्तुत करना बेहतर होगा।
  5. जलवायुु परिवर्तन और ईंधन
  6. जलवायु परिवर्तन और बिजली
  7. जलवायु परिवर्तन और कचरा प्रबंधन व प्रदूषण उन्मूलन
  8. जलवायु परिवर्तन और भूगोल ( हिम क्षेत्र, मैदान, पहाङ, पठार, रेत, हवा और मृदा)
  9. जलवायु परिवर्तन और जलसंसाधन (समुद्र, मेघ, भूजल, ग्लेशियर, नदियां तथा अन्य सतही जलस्त्रोत – प्रदूषण, मात्रा व समाधान के पहलू )
  10. जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता  (जैवविविधता पर प्रभाव तथा जैव विविधता घटोत्तरी का अन्य पर प्रभाव)
  11. जलवायु परिवर्तन और कृषि-वानिकी  ( तापमान बढोत्तरी में कृषि का योगदान, जलवायु परिवर्तन के कृषि-वानिकी पर दुष्प्रभाव, दुष्प्रभाव के कारण, दुष्प्रभाव से बचने के तौर-तरीके तथा किसानी व विज्ञानी स्तर पर अनुसंधान, जनजागरण, शिक्षण, प्रशिक्षण व क्षमता विकास की तैयारी)
  12. जलवायु परिवर्तन और आपदा प्रबंधन  ( आपदाओं का संभावित चित्र, जरूरी सावधानियां, तैयारी और संबंधित कार्यतंत्र )
  13. जलवायु जलवायु परिवर्तन और आर्थिकी (जीडीपी में योगदान करने वाले क्षेत्रों पर असर, मंहगाई, ई बिजनेस, खुदरा व्यापार अािद पहलू)
  14. जलवायु परिवर्तन और स्वास्थ्य  (संभावित कुपोषण, महामारियां, प्रतिरोधक क्षमता और जरूरी तैयारी संबंधी पहलू)
  15. जलवायु परिवर्तन के सामाजिक दुष्प्रभाव-1 ( बेरोजगारी, पलायन, जनसंख्या वितरण में बदलाव, वर्ग संघर्ष, अपराध में बढ़ोत्तरी तथा शिक्षा, नारी, आदिवासी, गरीब आदि पर असर का आकलन। )
  16. जलवायु परिवर्तन के सामाजिक दुष्प्रभाव-2  ( बेरोजगारी, पलायन, जनसंख्या वितरण में बदलाव, वर्ग संघर्ष, अपराध में बढ़ोत्तरी तथा शिक्षा, नारी, आदिवासी, गरीब आदि पर असर का आकलन। )
  17. जलवायु परिवर्तन और भारतीय विकास माॅडल।  ( भारतीय प्राथमिकतायें, शहरी विकास, ग्रामीण विकास, विकास की ऊर्जा व अन्य जरूरी संसाधन संबंधी मांग तथा पूर्ति का सवाल तथा माॅडल में अपेक्षित बदलाव।)
  18. जलवायु परिवर्तन: वैज्ञानिकों और इंजीनियरों के लिए चुनौतियों के बिंदु।
  19. जलवायु परिवर्तन: शासकीय भूमिका और तैयारी। ( नीतिगत, आर्थिक और क्रियान्वयन की जरूरी तैयारियां कैसे हों)
  20. जलवायु परिवर्तन: उपभोग घटाने और सदुपयोग घटाने में नागरिक भूमिका। 
  21. जलवायु परिवर्तन: सूचना व जनसंचार तंत्र की भूमिका, तकनीक व तैयारी।

आदरणीय, यदि नीतिगत तौर पर आप इस विषय पर थोङा भी काम करने का मन बना पायें, तो विस्तृत चर्चा हेतु यदि मेरा समय अपेक्षित होगा; मैं प्रस्तुत हो जाउंगा।
सादर-साभार
आपका अपना
अरुण तिवारी, दिल्ली
9868793799 /[email protected]