रचनाकार डॉ.समाज शेखर
                                                                                                      संयोजक, बकुलाही पुनरोद्धार अभियान
                                                          भयहरणनाथ धाम, कटरा गुलाब सिंह, जिला  – प्रतापगढ़ {उत्तर प्रदेश}
                                                                                   84007022124 /  [email protected] .com
नदी—————————————————————————————————————-

मात्र आगे ही नहीं,
पीछे भी बहती है नदी.
ढाल वह जिस ओर पाती,
उधर बह चलती नदी.

नर व नारी सभी को 
संतृप्त कर बहती नदी.
पेड़-पौधे-जीव सबको 
ज़िन्दगी देती नदी.

युग-युगों से पूर्वजों को
 तारती आयी नदी.
ताल-पोखर-झील बोलो 
किसको भूल पाई  नदी ?

विविध जल-स्रोतों को 
अपने में समा लेती नदी.
हर विकट – बाधा बगल कर 
स्वतः मुड़ लेती नदी.

राह के रोड़े बने पत्थर 
निगल लेती नदी.
चूर कर चट्टान का अभिमान
 बढ़ लेती नदी.

देश का सच पूछिए तो 
प्राण होती है नदी.
सोचती सबका सहज 
कल्याण  हरदम है नदी.

क्या सदी इक्कीसवी का
दर्द बांटेगी नदी ?
जल नदी का प्राण, जल बिन
खाक क्या छाने नदी.

———————————