अभी लोग सोचते हैं कि नदियां सरकार की हैं। समस्या का समाधान भी सरकार ही करेगी। यह सोच ही समाधान के मार्ग में सबसे बङी बाधा है। यह सोच बदलनी होगी। सोच बदली तो ये लोग ही सरकारों को बता देंगे कि तात्कालिक योजना बाढ राहत की जरूर हो, लेकिन दीर्घकालिक योजना बाढ निवारण की ही बने। वे यह भी बता देंगे कि बाढ की समस्या का समाधान नदियों को बांधने में नहीं, बल्कि मुक्त करने में ही है। नदी को नहर या नाले का स्वरूप देने की गलती भी नहीं की जानी चाहिए। हालांकि ये बातें देश के अनपढ भी जानते हैं, लेकिन उनकी मानने वालों की संख्या कम होती जा रही है। विकास की नई पढाई के रास्ते में सर्वाधिक तोङक तथ्य यही है।

मुझे यह लिखते हुए गर्व होता है कि मेरे जैसे अध्ययनकर्ता को भी अंगूठा छाप लोगों ने ही सिखाया है कि बाढ और सुखाड के कारण कमोबेश एक जैसे ही होते हैं। उपाय भी एक जैसे ही हैं। नदी मध्य बने बांधों में पानी रोकने का गलत तर्क देकर बाढ के विनाश रोका नहीं जा सकता। बांधों के जलाशयों में एकत्र पानी के फाटक खुलते ही वेग से बहने के कारण ही नदियां उफनती है; विनाश बढता है। उत्तराखण्ड में गाड-गदेरे जलनिकासी का परंपरागत मार्गों को कहते हैं और चाल-खाल जलसंचयन के परंपरागत ढांचों के नाम हैं। बाढ का विनाश कम करने के लिए ऊपर पहाङियों में ही परंपरागत चाल-खाल बनाकर ही उत्तराखण्ड वासी बाढ के विनाश को रोकते रहे हैं। इन्ही ढांचों में रुककर पानी नीचे नदी में बाढ नहीं आने देता था। ताल, पाल, झाल, जाबो, कूळम, आपतानी, आहर पाइन…. जाने कितने ही नाम व स्वरूप के साथ देश के हर इलाके में ऐसे परंपरागत ढांचे मौजूद हैं। नदियों में आने से पहले और बाद में बारिश के पानी को अपने अंदर रोककर रखने वाली ऐसी जलसंरचनाओं को कब्जामुक्त कर पुनः जीवित करना होगा। जलनिकासी के परंपरागत मार्ग में खङे अवरोधों को हटाना होगा। स्थानीय भू सांस्कृतिक विविधता का सम्मान करते हुए बडे पेड व जमीन को पकडकर रखने वाली छोटी वनस्पतियों  के सघनता बढाने की योजना बनानी होगी। यह नहीं कि जहां बाझ, बुंरास, अखरोट जैसे चैङे पत्ते वाले पेङ चाहिए, उस उत्तराखण्ड में पानी सोखने व एसिड छोङने वाले चीङ के जंगल लगा दिए। इसमें जन जुङाव की सबसे बङी भूमिका है। इससे उत्तराखण्ड में मिट्टी के क्षरण की सीमा लांघ चुकी रफ्तार भी कम होगी और विनाश भी कम होगा। ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन को नियंत्रित करने के उपाय भी ये ही हैं।

बाढ नुकसान कम करे; इसके लिए परपंरागत बाढ क्षेत्रों व हिमालय जैसे संवेदनशील होते नये इलाकों में समय से पूर्व सूचना का तकनीकी तंत्र विकसित करना जरूरी है। बाढ के परंपरागत क्षेत्रों में लोग जानते हैं कि बाढ कब आयेगी। वहां जरूरत बाढ आने से पहले सुरक्षा व सुविधा के लिए एहतियाती कदमों की हैं: पेयजल हेतु सुनिश्चित हैंडपम्पों को ऊंचा करना। जहां अत्यंत आवश्यक हो, पाइपलाइनों से साफ पानी की आपूर्ति करना। मकानों के निर्माण में आपदा निवारण मानकों की पालना। इसके लिए सरकार द्वारा जरूरतमंदों को जरूरी आर्थिक व तकनीकी मदद। मोबाइल बैंक, स्कूल, चिकित्सा सुविधा व  अनुकूल खानपान सामग्री सुविधा। ऊंचा स्थान देखकर वहां हर साल के लिए अस्थाई रिहायशी व प्रशासनिक कैम्प सुविधा। मवेशियों के लिए चारे-पानी का इंतजाम। ऊंचे स्थानों पर चारागाह क्षेत्रों का विकास। देसी दवाइयों का ज्ञान। कैसी आपदा आने पर क्या करें ? इसके लिए संभावित सभी इलाकांे में निःशुल्क प्रशिक्षण देकर आपदा प्रबंधकों और स्वयंसेवकों की कुशल टीमें बनाईं जायें व संसाधन दिए जायें। परंपरागत बाढ क्षेत्रों में बाढ अनुकूल फसलों का ज्ञान व उपजाने में सहयोग देना। बादल फटने की घटना वाले संभावित इलाकों में जलसंरचना ढांचों को पूरी तरह पुख्ता बनाना। केदारनाथ धाम का गांधी सरोवर यदि पुख्ता हदबंदी हुई होती, तो विनाश इतना अधिक नहीं होता।

कहना न होगा कि लोगों को जोङे और समस्या के मूल कारणों को समझे बगैर बाढ और सुखाड से नहीं निपटा जा सकता। समस्या के मूल पर सुधार करना होगा। बिजली बनाने के लिए पवन, सौर और भू-तापीय ऊर्जा बेहतर व स्वच्छ विकल्प हैं। इनसे कोई विस्थापन या विनाश नहीं होता। नदियों को धरती के उपर से नहीं, बल्कि धरती के भीतर से जोडने की जरूरत है। वर्षा जल संचयन के छोटी-छोटी संरचनायें ही नदी जोङ का सही विकल्प हैं। नदियों में जल की मात्रा और गुणवत्ता.. दोनो को संयमित करने के लिए लौटना फिर छोटी संरचनाओं और वनस्पतियों की ओर ही होगा। इन्हे जानने के लिए किसी आयोग सा उच्च स्तरीय समूह की जरूरत नहीं है। हां! इन्हे लागू करने के लिए जरूरत समर्पित एक समूह नहीं, कई हजार समूहों की जरूरत इस देश को है। यदि हम ऐसा कर सके तो न ही बाढ बहुत विनाशकारी साबित होगी और न ही सूखे से लोगों के हलक सूखेंगे।… तब न नदी जोड की जरूरत बचेगी, न भूगोल उजडेगा और देश भी कर्जदार होने से बच जायेगा। उद्योगों को भी पानी होगा और नदियां भी बर्बाद होने से बच जायेंगी।.. तब बाढ विनाश नहीं, विकास का पर्याय बन जायेगी। यह संभव है; बशर्ते नींव, नीति और नीयत तीनो ईमानदार हो।
……………………………………………………………………………………………………………………………………………