श्रीनगर बांध की समस्याओं के लिये केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय जिम्मेदार

श्रीनगर बांध पर राष्ट्रीय जनआयोग’ की घोषणा

श्रीनगर बांध परियोजना के पर्यावरण व पुर्नवास तथा अन्य सवालों की निगरानी रखने और निर्णय लेने की पूर्ण जिम्मेदारी केंद्रीय  पर्यावरण मंत्रालय की है। हाल ही में जल संसाधन एवं नदी विकास और गंगा पुनर्जीवन मंत्री सुश्री उमा भारती जी ने उत्तराखंड राज्य सरकार को परियोजना के विभिन्न नियमों के उल्लंधनों पर कार्यवाही करने का जो निर्देश दिया है, उसका श्रीनगर के नागरिकों ने स्वागत किया है। श्रीनगर बाँध आपदा संघर्ष समिति व माटू जनसंगठन के तत्वाधान में उत्तराखंड में अलकनंदा नदी के किनारें श्रीनगर में आयोजित सेमिनार में वक्ताओं ने परियोजना बनने से पहले और परियोजना के चालू होने के बाद विभिन्न असरों पर अपनी बात रखी ।

माटू संगठन के समन्वयक विमल भाई ने कहा कि हम मंत्री जी के पत्र में व्यक्त की गई चिन्ताओं का स्वागत करते हैं। हम मानते हैं कि राज्य सरकार की यह जिम्मेदारी है कि वह अपने स्तर पर परियोजना से संबंधित मुद्दों का तथ्य परक आंकलन करें और अपनी रिपोर्ट केंद्रीय मंत्रालय को भेजें और साथ ही उन्होने यह भी स्पष्ट किया कि परियोजना की मूलतः दो पर्यावरण और वन स्वीकृतियां,केंद्रीय  पर्यावरण, वन एवं जलवायु मंत्रालय द्वारा दी जाती हैं। इसलिये मंत्रालय की यह पहली जिम्मेदारी है कि वह दोनों स्वीकृतियों पर निगरानी करे। इस मंत्रालय ने बिना किसी अध्ययन, पर्यावरण प्रभाव आंकलन किये बांध की उंचाई 65 मी0 से 95 मी0 तथा विद्युत उत्पादन क्षमता 220 मेगावाट से 330 मेगावाट करने की अनुमति दी, जिसका नतीजा यह हुआ कि मां धारी देवी का प्राचीनतम मंदिर जलमग्न हो गया, श्रीनगर शहर को लगातार समस्याओं का सामना करना पड़ा है जिसमें पीने का गंदा पानी, बांध की नहर के रिसाव के कारण चौरास क्षेत्र के अनुसूचित जाति बहुल मंगसू, सुरासू, गुगली नागराजासैण, पतुल्डु तथा नौर व मढ़ी आदि समस्त वह क्षेत्र जहां से परियोजना की नहर गुजरती है, खतरे की स्थिति में है। जिसे सरकारी वाडिया संस्थान ने भी स्वीकारा है। अलकनंदा लोगो से छिन गई है।

गढ़वाल के केंद्रीय  विश्वविद्यालय, श्रीनगर के भूगर्भ विज्ञानी प्रो0 सती ने कहा कि यह परियोजना भूगर्भीय दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्र में बना दी गई है जो कि भविष्य के लिये खतरा है।

कीर्तिनगर से चन्द्रभानु तिवाड़ी ने कहा कि बांध का मक निस्तारण के बारे में पर्यावरण मंत्रालय ने पूर्व में अपनी स्वीकृति में स्पष्ट दिशा निर्देश नहीं दिये थे और बांध कम्पनी ने भी मक का निस्तारण समुचित तरीके से नहीं किया जिस कारण सन् 2013 की आपदा में श्रीनगर शहर के एक हिस्से को भयंकर परिस्थितियों का सामना करना पड़ा। एन0 जी0 टी0 के 19/08/2016 के आदेश में यह बात स्वीकार की गई है।

मंगसू गांव के महेश भारद्वाज का कहना है कि हमें छला गया। पहले हम नदी से पानी लाते थे अब पीने का पानी दो दिन में एक बार मिलता है। बांध नहर के कारण सिंचाई की गूलें खत्म हो गई, हमारी जमीनों पर खेती नहीं हो पा रही और जो जमीनें लीज पर ली थीं कम्पनी नें उसका हर साल एक समझौता करना था । जो कई सालों से नहीं हुआ है। हमारे रिहायशी भवनों में भी दरारें है न पशुओं को चारा है न घर में अनाज। रोजगार से भी युवाओं को भी बंचित कर दिया गया है।

भक्तियाना क्षेत्र की वार्ड सदस्य सुश्री विजयलक्ष्मी रतूड़ी ने कहा कि बांध से मिलने वाला 12 प्रतिशत व 1 प्रतिशत बिजली का पैसा जो क्षेत्र के लिये खर्च किया जाना था उसका कुछ पता ही नहीं है।

श्रीनगर बांध आपदा संधर्ष समिति के अध्यक्ष जी श्री चन्द्र मोहन भट्ट ने चिन्ता व्यक्त की कि नदी में अविरल प्रवाह न होने के कारण बांध से पावर हाउस तक नदी का पारिस्थितिकि तन्त्र खत्म हो गया है। मछलियों का जीवनचक्र प्रभावित हुइा है। 6 सरकारी ट्यूबवैल निर्मित होने से पहले ही बेकार हो गये।

  • अन्य विभिन्न वक्ताओं ने भी बांध से उत्पन्न विभिन्न समस्याओं पर चिन्ता व्यक्त की। सेमिनार के अंत में सर्वसम्मति से केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती जी, श्री अनिल माधव दवे व मुख्य मंत्री श्री हरीश रावत जी को पत्र के माध्यम से अपनी चिन्ताओं से अवगत करवाया व मांग की कि ये सभी मुद्दे केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा अध्ययन किये जायें। पर्यावरण मंत्रालय अपनी जिम्मेदारी निभाये चूंकि पर्यावरण एवं वन दोनों की ही स्वीकृति उसने ही दी है।

  • आगे की रणनीति के तौर पर बांध से जुड़ी सभी समस्याओं पर एक विस्तृत अध्ययन रिपोर्ट के लिये एक ‘श्रीनगर बांध पर राष्ट्रीय जनआयोग’ की घोषणा की गई जिसके नामों घोषणा भी जल्दी की जायेगी। यह जनआयोग अगले दो महीनों में इस रिपोर्ट को सरकार को भेजेेगा तथा राज्य सरकार द्वारा की जा रही कार्यवाही पर निगाह भी रखेगा।

हरीश रतूडी,  इंदु उप्रेती,  सुरेंदर सिंह नेगी

 श्रीनगर बाँध आपदा संघर्ष समिति व माटु संगठन

प्रेम भवन निकट आई आई टी, निकट भक्तियाना, श्रीनगर, उत्तराखंड,  मोबाइल – 09718479517

26-2-2017