Category

आज का लेख

आज का लेख, नदी लेख

क्या गंगा को सिर्फ चुनावी वाहन मानने वालों को अपना प्रतिनिधि चुनें ?

गंगा के सहारे चुनावी नौका पार करना, 2014 के प्रधानमंत्री पद के दावेदार श्री मोदी का एजेण्डा था। 2019 चुनाव में अब यह राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनाने की अपील करने वाली प्रियंका गांधी का एजेण्डा है।

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख

गंगा शहीदों की मांगों पर संकल्प कब ?Featured

सरकार का यह रवैया दुःखद है। क्या गंगा और गंगा बलिदानियों को लेकर प्रधानमंत्री जी के रवैये को हम जायज़ कह सकते हैं ? मां गंगा और भारत माता को लेकर हुई शहादत-शहादत में फर्क करने के हमारा रवैया कितना जायज़ है ? मांग है कि हम चुप्पी तोडे़ं। हम समझें कि गंगा की अविरलता की मांग, गंगा की सुरक्षा से ज्यादा हमारी सेहत, रोज़ी-रोटी, भूगोल, आर्थिकी, आस्था और भारतीय अस्मिता की सुरक्षा से जुड़ी मांग है। इसीलिए मांग है कि हम मुखर हों और शासन-प्रशासन को गंगा तथा गंगा की सुरक्षा के प्रति अनशतरत् संतानों के प्रति संवेदनशील और ईमानदार होने को विवश करें।

Continue reading
Uncategorized, आज का लेख, जलतरंग, नदी लेख

पुलवामा घात में अमर हुए सी आर पी एफ के शहीदों को नमन करते हुए एक गंगा प्रश्न

उन को वंदन, उन पर क्रंदन,
बदला-बदले की आवाज़ें,
शत्-शत् करती मैं उन्हे नमन्,
पर इन पर चुप्पी कितनी जायज़,
खुद से पूछो, खुद ही जानो,
खुद का करतब पहचानो,
मैं गंगा तुम से पूछ रहीं…

Continue reading
आज का लेख, जलतरंग, पानी लेख, प्रकृति लेख

पानी प्रणय पक्ष

लेखक : अरुण तिवारी आतुर जल बोला माटी सेमैं प्रकृति का वीर्य तत्व हूं,तुम प्रकृति की कोख हो न्यारी।इस जगती का पौरुष मुझमें,तुममें रचना का गुण भारी।नर-नारी सम भोग विदित जस,तुम रंग बनो, मैं बनूं बिहारी।आतुर जल बोला माटी से…. न स्वाद गंध, न रंग तत्व,पर बोध तत्व है अनुपम…

Continue reading
आज का लेख, जलतरंग, प्रकृति लेख

मैं देवदार का घना जंगल

लेखक: अरुण तिवारी मैं देवदार का घना जंगल,गंगोत्री के द्वार ठाड़ा,शिवजटा सा गुंथा निर्मलगंग की इक धार देकर,धरा को श्रृंगार देकर,जय बोलता उत्तरांचल की,चाहता सबका मैं मंगल,मैं देवदार का घना जंगल… बहुत लंबा और ऊंचा,हिमाद्रि से बहुत नीचा,हरीतिमा पुचकार बनकर,खींचता हूं नीलिमा को,मैं धरा के बहुत नीचे, सींचता हूं खेत को…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख

स्वामी सानंद इसलिए चाहते थे अविरल गंगा

अरुण तिवारी गंगा की अविरलता की मांग को पूरा कराने के लिए स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद ने अपने प्राण तक दांव पर लगा दिए। इसी मांग की पूर्ति के लिए युवा साधु गोपालदास आगे आये और अब इस लेख को लिखे जाने के वक्त तक मातृ सदन, हरिद्वार के सन्यासी आत्मबोधानन्द और…

Continue reading
आज का लेख

स्वामी सानंद के आत्मकथ्य पर आधारित शीघ्र प्रकाश्य हिंदी पुस्तक

ख़ास परिचितों के बीच ‘जी. डी.’ के संबोधन से चर्चित सन्यासी स्वर्गीय स्वामी श्री ज्ञानस्वरूप सानंद के गंगापुत्र होने के बारे में शायद ही किसी को संदेह हो। बकौल श्री नरेन्द्र मोदी जी, वह भी गंगापुत्र हैं। ”मैं आया नहीं हूं, मुझे मां गंगा ने बुलाया है।” – वर्ष 2014…

Continue reading
आज का लेख

An upcoming English book based on self-brief by SWAMI SANAND

To have the realness, to have the growth of vision, about the rights and wrongs of life, the churning should be done. After every churning, there is heat and light. The light brings the truth. For that, the questions need to be asked, such as, how it is to be understood, that we are developing? What can be the definition of development? Will it be okay to talk about any definition? Is asking such questions or thinking in this way, creates something negative or will the light be born from this churn? Although, there are factual intelligence, vested interests, practices and will. However, among these, there are many examples of personalities, sacrifices and wisdom, which are the source of light, helping visions to grow, to churn, to effort.

Continue reading
Bitnami