Category

आज का लेख

आज का लेख, नदी लेख, प्रकृति लेख

गंगोत्री के हरे पहरेदारों की पुकार सुनो

लेखक: सुरेश भाई एक ओर ‘नमामि गंगे’  के तहत् 30 हजार  हेक्टेयर भूमि पर वनों के रोपण का लक्ष्य है तो दूसरी ओर गंगोत्री से हर्षिल के बीच हजारों हरे देवदार के पेडों की हजामत किए जाने का प्रस्ताव है। यहां जिन देवदार के हरे पेडों को कटान के लिये चिन्हित किया गया हैं, उनकी उम्र न तो छंटाई योग्य…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख, पानी लेख, प्रकृति लेख, समय विशेष

NAPM निमंत्रण : ‘मुक्त बहने दो’ पुस्तक विमोचन तथा उत्तराखंड में भूमि का सवाल पर चर्चा

जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय, उत्तराखंड                      कंडी खाल, पो0 आ0 कैम्पटी वाया मसूरी, टिहरी गढवाल, उत्तराखंड–248179      09718479517, 9927145123 निमंत्रण  10 जून, 2017 शनिवार   समय- 11 बजे से 3.30 तक स्थान- जैन धर्मशाला, निकट प्रिंस चौक, देहरादून, उत्तराखंड                                            …

Continue reading
आज का लेख, प्रकृति लेख, समय विशेष

अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस २०१७ पर विशेष : जन जुड़ेगा तो बचेगा पर्यावरण

श्री अनुपम मिश्र जी और उनसे परिचय करती भेड़ें : यूँ जुड़े प्रकृति का हर अंग तो कुछ बात बने  आदरणीय / आदरणीया, नमस्ते .   अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस – 2017 का संयुक्त राष्ट्र संघ निदेशित वाक्य है – कनेक्ट विथ नेचर अर्थात प्रकृति से जुड़ें. इसके मायने को खोलता अरुण तिवारी लिखित लेख नवभारत टाइम्स के 05  जून के…

Continue reading
आज का लेख, जलतरंग, नदी लेख, समय विशेष

गंगा तट से बोल रहा हूं : अरुण तिवारी

हंसा तो तैयार अकेला , तय अब हम को ही करना है  स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद (प्रो जी डी अग्रवाल जी ) के गंगा अनशन (वर्ष 2013) पर छाई चुप्पी से व्यथित होकर अनशन के 100वें दिन श्री अरुण तिवारी ने एक अत्यंत मार्मिक आहृान किया था। मातृ सदन के स्वामी शिवानंद जी के अनशन पर हरिद्वार प्रशासन ने जिस प्रकार…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख, समय विशेष

04 जून-गंगा दशहरा पर विशेष : इच्छा मृत्यु मांगती मां की पुकार सुनें

  लेखक: अरुण तिवारी   ‘‘गं अव्ययं गम्यति इति गंगा। तुमने ही कहा कि मैं तुम्हे स्वर्ग ले जाने आई थी। मुझे तुम्ही इस धरा पर लाये थे। अब तुम्ही इस गंगा दशहरा पर मुझे मार क्यों नहीं देते ? तुमने मुझे मां से महरी तो बना ही दिया है। कोमा में भी पहुंचा ही दिया है। अब वापस मुझे…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख, समय विशेष

04 जून – गंगा दशहरा 2017 पर विशेष : ‘नमामि गंगे’ के तीन साल

उत्सव मनायें या रुदन गायें ?   लेखक: अरुण तिवारी   कहते हैं कि प्रधानमंत्री श्री मोदी जी जब बोलते हैं, तो उनकी बोली में संकल्प दिखाई देता है। गंगा को लेकर कहे उनके शब्दों को सामने रखें। स्वयं से सवाल पूछें कि गंगा को लेकर यह बात कितनी सत्य है ? गौर कीजिए कि मोदी जी ने इस संकल्प की पूर्ति…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख

उत्तराखंड में गंगा में खनन के खिलाफ मातृ सदन का अनशन

पुलिस ने की जबरदस्ती  समाचार एवं फोटो स्त्रोत : matrisadan.worldpress.com आश्रम में प्रशासन का बलपूर्वक प्रवेश May 31, 2017Uncategorized रविवार (28 May 2017) की संध्या पांच बजे हरिद्वार जिला प्रशासन के लोग भारी पुलिस बल साथ लेकर आश्रम में आये और ईंधन वाला कटर लेकर श्री गुरुदेव जी के पवित्र कक्ष का ग्रिल काटकर मुख्य दरवाज़ा से पहले मच्छरजाली दरवाज़ा को…

Continue reading
आज का लेख, समय विशेष

तम्बाकू छोडो : सेहत बचाओ

तम्बाकू एक नशा : संकल्प ही विकल्प 31 मई – विश्व तंबाकू निषेघ दिवस पर विशेष लेखक : अरुण तिवारी    तंबाकू नशा है और इसे इस्तेमाल करने वाले – नशेङी ! संभव है यह संबोधन तंबाकू खाने वालों को बुरा लगे, लेकिन समय का सच यही है और विश्व तंबाकू निषेध दिवस की चेतावनी भी। भारत में जितनी भी चीजें नशे…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख

गाद को बहने दो

लेखक: अरुण तिवारी   सैंड, सेडिमेन्ट और सिल्ट यानी रेत, गाद और तलछट। सबसे मोटा कण रेत, उससे बारीक गाद और उससे बारीक कण को तलछट कहते हैं। रेत, स्पंज की तरह होता है। इस नाते रेत का काम होता है, नदी के पानी को सोखकर उसे सुरक्षित रखना। नदी से जितना अधिक गहराई से रेत निकालते जायेंगे, नदी की…

Continue reading
आज का लेख, नदी लेख, पानी लेख

केन-बेतवा नदी जोड़

गठजोड़ हुआ, तो पन्ना टाइगर रिज़र्व का नाश तय  लेखक : आशीष सागर बुन्देलखण्ड क्षेत्र के यूपी-एमपी में प्रस्तावित केन-बेतवा नदी लिंक प्राकृतिक आपदा है – केंद्र सरकार ने फारेस्ट एडवाइजरी कमेटी से वन्यभूमि अधिग्रहण करने की एनओसी प्राप्त की – पर्यावरण मंत्रालय ने अभी मामले को उलझा रखा है उधर सुप्रीम कोर्ट अपनी निगरानी में टाइगर बफर जोन में…

Continue reading